कल्पना चावला - एक ऐसी महिला जिसने परिस्थितियों के आगे कभी घुटने नहीं टेके।

शायद यह बात बिल्कुल सच है कि अगर आप किसी काम को करने का दृढ़ निश्चय कर ले तो आपको फिर कोई हरा नहीं सकता क्योंकि कल्पना चावला ऐसे समाज से ताल्लुक रखती थी जहां पर लड़कियों को इतनी तवज्जो नहीं दी जाती थी जिस कारण लड़कियों को बढ़ना उस समय बहुत कठिन होता था अगर उस समय में उन्होंने ऐसा कर दिया तो यह उनकी बहुत बड़ी बात है|
Part-2 कल्पना चावला; एक ऐसी महिला जिसने परिस्थितियों के आगे कभी घुटने नहीं टेके।
कभी महक की तरह हम गुलों से उड़ते हैं
कभी धुएं की तरह पर्वतों से उड़ते हैं
ये केचियाँ हमें उड़ने से खाक रोकेंगी
की हम परों से नहीं हौसलों से उड़ते हैं
1.उनका जन्म 17 मार्च, 1962 को करनाल (भारतीय राज्य हरियाणा) में हुआ था। वह एक औसत मध्यमवर्गीय परिवार से थी। एक ऐसे समाज में परवरिश की जा रही थी जहाँ लड़कों का पक्षधर थे, और लड़कियों को आज्ञाकारी और विनम्र होने की उम्मीद की जाती थी, कल्पना ने बाधाओं को हराकर अपनी मां के समर्थन से अपने सपनों का पालन करने का फैसला किया।

Third party image reference
2.उन्होंने टैगोर बाल निकेतन सीनियर सेकेंडरी स्कूल, करनाल, हरियाणा, भारत से अपनी स्कूली पढ़ाई की और 1982 में पंजाब इंजीनियरिंग कॉलेज, चंडीगढ़ से एयरोनॉटिकल इंजीनियरिंग में बी.टेक पूरा किया। हालांकि उन्होंने कभी भी अपनी कक्षा में सर्वोच्च अंक हासिल नहीं किए। हमेशा पहले पाँच में से एक हुआ करती थी।

Third party image reference
3.एक अंतरिक्ष यात्री बनने की अपनी इच्छा को पूरा करने के लिए, उसने नासा में शामिल होने का लक्ष्य रखा और 1982 में संयुक्त राज्य अमेरिका चली गई। उसने 1984 में आर्लिंगटन विश्वविद्यालय से टेक्सास विश्वविद्यालय से एयरोस्पेस इंजीनियरिंग में मास्टर डिग्री प्राप्त की।

Third party image reference
4.मोंटो कल्पना को उनके माता-पिता द्वारा दिया गया नाम था, और यह उनका उपनाम बन गया।
5.उन्होंने 1983 में जीन-पियरे हैरिसन से शादी की, जो एक उड़ान प्रशिक्षक और एक विमानन लेखक थे

अगर दोस्तों आप चाहते हैं कि हम इसका part-2 लेकर आए तो आप हमें कमेंट करके जरूर बताएं अगर आपको भी हमारा आर्टिकल पसंद आया हो अगर आप ऐसे मजेदार आर्टिकल और पढ़ना चाहते हैं तो फॉलो कर\
Part-2 कल्पना चावला; एक ऐसी महिला जिसने परिस्थितियों के आगे कभी घुटने नहीं टेके।

Comments

कुछ नया सीखे